आज का हिन्दू पंचांग दिनांक – 19 जुलाई 2023 दिन – बुधवार

*🌞~ आज का हिन्दू पंचांग ~🌞*
*⛅दिनांक – 19 जुलाई 2023*
*⛅दिन – बुधवार*
*⛅विक्रम संवत् – 2080*
*⛅शक संवत् – 1945*
*⛅अयन – दक्षिणायन*
*⛅ऋतु – वर्षा*
*⛅मास – अधिक श्रावण*
*⛅पक्ष – शुक्ल*
*⛅तिथि – द्वितीया 20 जुलाई प्रातः 04:30 तक तत्पश्चात तृतीया*
*⛅नक्षत्र – पुष्य सुबह 07:08 तक तत्पश्चात अश्लेषा*
*⛅योग – वज्र सुबह 10:26 तक तत्पश्चात सिद्धि*
*⛅राहु काल – दोपहर 12:46 से 02:26 तक*
*⛅सूर्योदय – 06:05*
*⛅सूर्यास्त – 07:27*
*⛅दिशा शूल – उत्तर दिशा में*
*⛅ब्राह्ममुहूर्त – प्रातः 04:40 से 05:22 तक*
*⛅निशिता मुहूर्त – रात्रि 12:25 से 01:07 तक*
*⛅व्रत पर्व विवरण – चन्द्र-दर्शन (शाम 07:27 से रात्रि 08:48 तक)*
*⛅विशेष – द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है । (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*

*🔹धन आरोग्य एवं शांति की प्राप्ति के लिए🔹*

*🔸जो व्यक्ति चतुर्मास में अथवा अधिक मास ( पुरूषोत्तम ) में भगवान को कनेर के पुष्प अर्पित करता है, उस पर लक्ष्मी जी की कृपा बनी रहती हैं । उसे आरोग्य एवं शांति की प्राप्ति होती है तथा उसके संकट दूर होते हैं ।*

*🔸मनोबल व आत्मबल वृद्धि हेतु🔸*

*🔹जो किसीके सामने बोलने में हिचकिचाते या भय करते हैं, वे रोज सोते समय फिटकरी के चूर्ण से दाँत साफ करें व बुधवार को देशी गाय को हरी घास खिलाएं । इससे उनमें मनोबल बढ़ेगा व हिचकिचाहट भी कम होगी ।*

*🔹इससे भी सरल और उत्तम उपाय जो मनोबल तो क्या सीधे आत्मबल जगाता है, वह है रोज १०-१५ मिनट या अधिक ॐकार का दीर्घ (लम्बा) गुंजन करना । साथ में आश्रम की समितियों के सेवाकेन्द्रों पर उपलब्ध ‘निर्भय नाद’ व ‘जीवन रसायन’ पुस्तकों का पठन, मनन भी करें तो सोने में सुहागे का काम करेगा ।*

*🌹 पूज्य बापूजी बताते हैं : “जब डर लगे तो अपने शुद्ध ‘मैं’ की ओर भाग जाओ या दौड़ के आओ । ‘हो-होकर क्या होगा ? मैं निर्भीक हूँ । ॐ….ॐ…..ॐ…. मैं अमर आत्मा हूँ । हरि ॐ…..ॐ….ॐ….’ ऐसा चिन्तन करो तो भय भाग जाएगा ।”*

*🔹छः बातों से बचो🔹*

*🔸देवर्षि नारद ने गालव ॠषि से कहा है: “चाहे साधु हो या सर्वसामान्य व्यक्ति, सभी को इन छ: बातों से बचना चाहिए”:*
*1. रात को घूमना ।*
*2. दिन में नींद लेना ।*
*3. आलस्य का आश्रय लेना ।*
*4. चुगली करना ।*
*5. गर्व करना ।*
*6. अति परिश्रम करना अथवा परिश्रम से बिल्कुल दूर रहना । क्योंकि अधिक परिश्रम से साधन भजन की क्षमता बिखर जायेगी और अधिक आराम से आलस्य आयेगा ।*

*🌞🚩🚩 *” ll जय श्री राम ll “* 🚩🚩🌞*